Dr. APJ Abdul Kalaam-Imaanadaari | भारत संस्कारों की जननी
Follow Us         

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम

ईमानदारी

एक बार डॉ कलाम ने अपने 50 रिश्तेदारों को दिल्ली आने का निमंत्रण दिया और वे सभी राष्ट्रपति भवन में रुके। उन्होंने शहर के चारों ओर ले जाने के लिए एक बस का आयोजन किया जिसका भुगतान उन्होंने स्वयं किया, कोई सरकारी कार का इस्तेमाल नहीं किया गया था। उनके सभी रहने और खाने की व्यवस्था डॉ। कलाम के निर्देश के अनुसार की गई और बिल 2 लाख रुपये का आया, जिसका भी उन्होंने भुगतान किया। इस देश के इतिहास में ऐसा कभी किसी ने नहीं किया था । हद तो तब हुई जब, डॉ. कलाम के बड़े भाई पूरे एक सप्ताह तक उनके कमरे में उनके साथ रहे तब, डॉ. कलाम उस कमरे का किराया भी देना चाहते थे।

मिस्टर अब्दुल कलाम सौभाग्य एंटरप्राइजेज (गीला पिसाई मशीन के नामचीन निर्माता) द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने इरोड पहुंचे। कार्यक्रम खत्म होने के बाद, कलाम जी को पिसाई मशीन उपहार स्वरूप मिली। कलाम जी को अपने घर के लिए यही मशीन कि आवश्यकता थी पर उन्होंने उसे उपहार स्वरूप लेने से मना कर दिया तथा सौभाग्य एंटरप्राइजेज के नाम का 4850/- रुपए का एक चेक बना दिया।

कंपनी और उसके मुख्य प्रबंधक को उनकी यह महानता से गद्गद हो उठे और उन्होंने चेक को कैश कराने की जगह उसे अपने ऑफिस में फ्रेम करके रख लिया। 2 महीने बाद, कलाम जी के ऑफिस से उन्हें फोन आया कि वे उस चेक को जल्द ही कैश करा लें नहीं तो कलाम जी उस मशीन को वापस कर देंगे। और कोई रास्ता ना होने पर कंपनी ने वो चेक की फोटोकॉपी करा के उसे कैश करा लिया।

इस प्रसंग से आप बहुत सारी शिक्षा के सकते हैं जैसे की:

कलाम जी की याददाश्त और व्यावहारिकता (दो महीने पहले दिए गए चेक को कौन याद रखता है)

वो कितने सरल और यथार्थवादी थे

पर इस महान व्यक्तित्व से सबसे बड़ी सीख यह ली जा सकती है कि वे अपने जीवन में कुछ भी मुफ्त का नहीं चाहते थे बल्कि सब कुछ अपनी हैसियत अनुसार कमाना चाहते थे। उनके जीवन का मूल मंत्र था "परिश्रम ही सफलता की कुंजी है"। इसलिए चाहे राष्ट्रपति बनना हो या एक पिसाई मशीन खरीदनी हो, वो सब कुछ अपनी शर्तों पर ही करना चाहते थे।


आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इस पेज को ज़रूर लाइक करें और नीचे दिए गए बटन दबा कर शेयर भी कर सकते हैं
डॉ एपीजे अब्दुल कलाम (ईमानदारी)
   56947   0

अगला पोस्ट देखें
डॉ एपीजे अब्दुल कलाम (पिता की सीख)
   57082   0

Comments

Write a Comment


Name*
Email
Write your Comment
जब हवा चलती है तो मैं सोता हूं
- Admin
   57200   0
अनीति को जीवित रहते सहन नहीं करना चाहिये
- Admin
   58609   0
भलाई का कार्य
- Admin
   66673   0
सच्ची मित्रता
- Admin
   66336   0
रोतलू पत्थर
- Admin
   57598   0
स्वार्थी लोमड़ी
- Admin
   58479   0
डॉ एपीजे अब्दुल कलाम (भारत के नागरिकों के लिए सन्देश)
- Admin
   56940   0
ईश्वर चंद्र विद्यासागर (परिश्रमी)
- Admin
   57419   0
सेठ लालची या दानी
- Admin
   67265   0
ईश्वर चंद्र विद्यासागर (समाज सुधारक)
- Admin
   57416   0
धैर्य की परीक्षा | समझदार लोमड़ी
- Admin
   57506   0
कटु वचन
- Admin
   59798   0
कुबेर धन प्राप्ति मंत्र
- Anonymous
   1   0
By visitng this website your accept to our terms and privacy policy for using this website.
Copyright 2024 Bharat Sanskaron Ki Janani - All Rights Reserved. A product of Anukampa Infotech.
../