आध्यात्मिक सुविचार | भारत संस्कारों की जननी
Follow Us         

सुविचार >> आध्यात्मिक सुविचार

आत्मोन्नति संसार की किसी भी बड़ी से बड़ी उन्नति से उच्च एवं महनीय होती है।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   168
अपनी महान् संभावनाओं पर अटूट विश्वास ही सच्ची आस्तिकता है।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   168
विषयों, व्यसनों और विलासों में सुख खोजना और पाने की आशा करना एक भयानक दुराशा है।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   168
धर्म अर्थात् कर्तव्य, फर्ज, ड्यूटी, जिम्मेदारी और ईमानदारी का समुच्चय।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   209
ईश्वर विश्वास का अर्थ है- उत्कृष्टता के प्रति असीम श्रद्धा रखने वाला साहस|
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   209
दर्शन को बनाने वाली माँ का नाम है- मनीषा।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   166
प्राण का ज्ञान एवं जागरण ही अमृतत्व एवं मोक्ष प्राप्त करने का मार्ग है।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   166
समाधि- उत्तरोत्तर विकसित होने वाली एक उच्च स्तरीय सुदृढ़ मनोभूमि है, जिसमें अनगढ़ मन को शनैः शनैः साधा एवं दीक्षित किया जाता है।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   166
योग का अर्थ है- आदर्शवादिता के प्रति आत्म- समर्पण।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   166
भाग्य पर नहीं, चरित्र पर निर्भर रहो।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   166
जिससे हम कुछ भी नहीं ले सकते, ऐसा संसार में कोई नहीं है।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   223
मनुष्य जन्म सरल है, पर मनुष्यता कठिन प्रयत्न करके कमानी पड़ती है।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   223
     
कुबेर धन प्राप्ति मंत्र
- Anonymous
   1   0
By visitng this website your accept to our terms and privacy policy for using this website.
Copyright 2024 Bharat Sanskaron Ki Janani - All Rights Reserved. A product of Anukampa Infotech.