प्रेरणादायक सुविचार | भारत संस्कारों की जननी
Follow Us         

सुविचार >> प्रेरणादायक सुविचार

सबसे उत्तम तीर्थ अपना मन है जो विशेष रूप से शुद्ध किया हुआ हो
- स्वामी शंकराचार्य
   121
कर्म, ज्ञान और भक्ति का संगम ही जीवन का तीर्थ राज है |
- दीनानाथ दिनेश
   121
तपस्या धर्म का पहला और आखिरी कदम है |
- महात्मा गांधी
   121
अपनी पीड़ा सह लेना और दूसरे जीवों को पीड़ा न पहुंचाना, यही तपस्या का स्वरूप है|
- संत तिरुवल्लुवर
   121
सत्याग्रह बल से नहीं , हिंसा के त्याग से होता है |
- महात्मा गांधी
   105
लोग चाहे मुट्ठी भर हों, लेकिन संकल्पवान हों, अपने लक्ष्य में दृढ आस्था हो, वे इतिहास को भी बदल सकते हैं
- महात्मा गांधी
   105
खुशियों को दामन में भरने पर वह थोड़ी सी लगती हैं, लेकिन यदि उन्हें बांटा जाये तो वे और ज्यादा बड़ी नजर आती हैं |
- अज्ञात
   105
उठो जागो और लक्ष्य तक मत रुको|
- स्वामी विवेकानंद
   105
सत्य से बड़ा तो इश्वर भी नहीं |
- महात्मा गांधी
   105
मेहनत करने से दरिद्रता नहीं रहती, धर्म करने से पाप नहीं रहता, मौन रहने से कलह नहीं होता |
- चाणक्य
   105
क्रोध ऐसी आँधी है जो विवेक को नष्ट कर देती है|
- अज्ञात
   105
हज़ार योद्धाओं पर विजय पाना आसान है, लेकिन जो अपने ऊपर विजय पाता है वही सच्चा विजयी है|
- गौतम बुद्ध
   105
     
कुबेर धन प्राप्ति मंत्र
- Anonymous
   1   0
By visitng this website your accept to our terms and privacy policy for using this website.
Copyright 2024 Bharat Sanskaron Ki Janani - All Rights Reserved. A product of Anukampa Infotech.