Bharat Jameen Ka Tukda Nahi | भारत संस्कारों की जननी
Follow Us         

भारत जमीन का टुकड़ा नहीं


भारत जमीन का टुकड़ा नहीं,

जीता जागता राष्ट्रपुरुष है।

हिमालय मस्तक है, कश्मीर किरीट है,

पंजाब और बंगाल दो विशाल कंधे हैं।

पूर्वी और पश्चिमी घाट दो विशाल जंघायें हैं।

कन्याकुमारी इसके चरण हैं, सागर इसके पग पखारता है।

यह चन्दन की भूमि है, अभिनन्दन की भूमि है,

यह तर्पण की भूमि है, यह अर्पण की भूमि है।

इसका कंकर-कंकर शंकर है,

इसका बिन्दु-बिन्दु गंगाजल है।

हम जियेंगे तो इसके लिये

मरेंगे तो इसके लिये।

आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इस पेज को ज़रूर लाइक करें और नीचे दिए गए बटन दबा कर शेयर भी कर सकते हैं
भारत जमीन का टुकड़ा नहीं
   352   0

अगला पोस्ट देखें
पंद्रह अगस्त की पुकार
   250   0

Comments

Write a Comment


Name*
Email
Write your Comment
कलम, आज उनकी जय बोल
- Ramdhari Singh Dinkar
   291   0
इसी देश में
- Prabhudayal Shrivastav
   274   0
अमर आग है
- Atal Bihari Vajpayee
   257   0
वर दे वीणावादिनी वर दे
- Suryakant Tripathi Nirala
   267   0
वीर तुम बढ़े चलो
- Dwarika Prasad Maheshwari
   257   0
मेरा देश बड़ा गर्वीला
- Gopal Singh Nepali
   291   0
स्वतंत्रता दिवस की पुकार
- Atal Bihari Vajpayee
   262   0
अरुण यह मधुमय देश हमारा
- Jayshankar Prasad
   238   0
है नमन उनको
- Kumar Vishwas
   268   0
झाँसी की रानी की समाधि पर
- Subhadra Kumari Chauhan
   279   0
आज सिन्धु में ज्वार उठा है
- Atal Bihari Vajpayee
   3204   0
तराना-ए-हिन्दी (सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा)
- Allama Iqbal
   254   0
कुबेर धन प्राप्ति मंत्र
- Anonymous
   1   0
By visitng this website your accept to our terms and privacy policy for using this website.
Copyright 2024 Bharat Sanskaron Ki Janani - All Rights Reserved. A product of Anukampa Infotech.
../