Shri Balaji Chalisa | भारत संस्कारों की जननी
Follow Us         

श्री बालाजी चालीसा

Shri Balaji Chalisa

॥ दोहा ॥
श्री गुरु चरण चितलाय,के धरें ध्यान हनुमान।

बालाजी चालीसा लिखे,दास स्नेही कल्याण॥

विश्व विदित वर दानी,संकट हरण हनुमान।

मैंहदीपुर में प्रगट भये,बालाजी भगवान॥

॥ चौपाई ॥
जय हनुमान बालाजी देवा।प्रगट भये यहां तीनों देवा॥

प्रेतराज भैरव बलवाना।कोतवाल कप्तानी हनुमाना॥

मैंहदीपुर अवतार लिया है।भक्तों का उध्दार किया है॥

बालरूप प्रगटे हैं यहां पर।संकट वाले आते जहाँ पर॥

डाकनि शाकनि अरु जिन्दनीं।मशान चुड़ैल भूत भूतनीं॥

जाके भय ते सब भाग जाते।स्याने भोपे यहाँ घबराते॥

चौकी बन्धन सब कट जाते।दूत मिले आनन्द मनाते॥

सच्चा है दरबार तिहारा।शरण पड़े सुख पावे भारा॥

रूप तेज बल अतुलित धामा।सन्मुख जिनके सिय रामा॥

कनक मुकुट मणि तेज प्रकाशा।सबकी होवत पूर्ण आशा॥

महन्त गणेशपुरी गुणीले।भये सुसेवक राम रंगीले॥

अद्भुत कला दिखाई कैसी।कलयुग ज्योति जलाई जैसी॥

ऊँची ध्वजा पताका नभ में।स्वर्ण कलश हैं उन्नत जग में॥

धर्म सत्य का डंका बाजे।सियाराम जय शंकर राजे॥

आन फिराया मुगदर घोटा।भूत जिन्द पर पड़ते सोटा॥

राम लक्ष्मन सिय ह्रदय कल्याणा।बाल रूप प्रगटे हनुमाना॥

जय हनुमन्त हठीले देवा।पुरी परिवार करत हैं सेवा॥

लड्डू चूरमा मिश्री मेवा।अर्जी दरखास्त लगाऊ देवा॥

दया करे सब विधि बालाजी।संकट हरण प्रगटे बालाजी॥

जय बाबा की जन जन ऊचारे।कोटिक जन तेरे आये द्वारे॥

बाल समय रवि भक्षहि लीन्हा।तिमिर मय जग कीन्हो तीन्हा॥

देवन विनती की अति भारी।छाँड़ दियो रवि कष्ट निहारी॥

लांघि उदधि सिया सुधि लाये।लक्ष्मन हित संजीवन लाये॥

रामानुज प्राण दिवाकर।शंकर सुवन माँ अंजनी चाकर॥

केशरी नन्दन दुख भव भंजन।रामानन्द सदा सुख सन्दन॥

सिया राम के प्राण पियारे।जब बाबा की भक्त ऊचारे॥

संकट दुख भंजन भगवाना।दया करहु हे कृपा निधाना॥

सुमर बाल रूप कल्याणा।करे मनोरथ पूर्ण कामा॥

अष्ट सिध्दि नव निधि दातारी।भक्त जन आवे बहु भारी॥

मेवा अरु मिष्ठान प्रवीना।भैंट चढ़ावें धनि अरु दीना॥

नृत्य करे नित न्यारे न्यारे।रिध्दि सिध्दियां जाके द्वारे॥

अर्जी का आदेश मिलते ही।भैरव भूत पकड़ते तबही॥

कोतवाल कप्तान कृपाणी।प्रेतराज संकट कल्याणी॥

चौकी बन्धन कटते भाई।जो जन करते हैं सेवकाई॥

रामदास बाल भगवन्ता।मैंहदीपुर प्रगटे हनुमन्ता॥

जो जन बालाजी में आते।जन्म जन्म के पाप नशाते॥

जल पावन लेकर घर जाते।निर्मल हो आनन्द मनाते॥

क्रूर कठिन संकट भग जावे।सत्य धर्म पथ राह दिखावे॥

जो सत पाठ करे चालीसा।तापर प्रसन्न होय बागीसा॥

कल्याण स्नेही, स्नेह से गावे।सुख समृध्दि रिध्दि सिध्दि पावे॥

॥ दोहा ॥
मन्द बुध्दि मम जानके,क्षमा करो गुणखान।

संकट मोचन क्षमहु मम,दास स्नेही कल्याण॥

श्री बालाजी चालीसा का अर्थ


श्री बालाजी चालीसा भगवान बालाजी को समर्पित है जो राजस्थान के दौसा जिले में स्थित मेहंदीपुर बालाजी मंदिर का मुख्य मंत्र है। यह चालीसा उनकी कृपा और आशीर्वाद को प्राप्त करने के लिए गाया जाता है।

श्री बालाजी चालीसा का वर्णन


श्री बालाजी चालीसा में बालाजी के विभिन्न रूपों की महिमा का वर्णन किया गया है। इसमें उनके आशीर्वाद से मनोकामनाएं पूरी होती हैं और उनकी कृपा से सभी दुःख दूर होते हैं। चालीसा में बालाजी के नाम का जाप करने से सभी पाप नष्ट होते हैं और धन-धान्य की वृद्धि होती है।

इस चालीसा को रोजाना सूर्योदय के समय पढ़ने से बालाजी की कृपा बनी रहती है। इसे पढ़ने से मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और जिंदगी में सुख शांति आती है।

इस चालीसा का जाप करने से धन-धान्य की वृद्धि होती है और समस्याओं से निजात मिलती है। इसे पढ़ने से आत्मा शुद्ध होती है और मनोदशा सुधर जाती है।
आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इस पेज को ज़रूर लाइक करें और नीचे दिए गए बटन दबा कर शेयर भी कर सकते हैं
श्री बालाजी चालीसा
   35   0

अगला पोस्ट देखें
श्री गिरिराज चालीसा
   33   0

Comments

Write a Comment


Name*
Email
Write your Comment
श्री गोपाल चालीसा
-
   42   0
श्री कुबेर चालीसा
-
   36   0
श्री रामदेव चालीसा
-
   37   0
श्री विश्वकर्मा चालीसा
-
   33   0
राधा चालीसा
-
   42   0
दुर्गा चालीसा
-
   36   0
सरस्वती चालीसा
-
   44   0
गायत्री चालीसा
-
   36   0
संतोषी माता चालीसा
-
   87   0
श्री परशुराम चालीसा
- Gosvami Tulsidas
   36   0
शीतला चालीसा
-
   41   0
श्री हनुमान चालीसा
- Goswami Tulsidas
   49   0
कुबेर धन प्राप्ति मंत्र
- Anonymous
   1   0
By visitng this website your accept to our terms and privacy policy for using this website.
Copyright 2024 Bharat Sanskaron Ki Janani - All Rights Reserved. A product of Anukampa Infotech.
../