Sharda Mata Chalisa | भारत संस्कारों की जननी
Follow Us         

शारदा माता चालीसा

Sharda Mata Chalisa

॥ दोहा ॥
मूर्ति स्वयंभू शारदा,मैहर आन विराज।

माला, पुस्तक, धारिणी,वीणा कर में साज॥

॥ चौपाई ॥
जय जय जय शारदा महारानी।आदि शक्ति तुम जग कल्याणी॥

रूप चतुर्भुज तुम्हरो माता।तीन लोक महं तुम विख्याता॥

दो सहस्त्र बर्षहि अनुमाना।प्रगट भई शारद जग जाना॥

मैहर नगर विश्व विख्याता।जहाँ बैठी शारद जग माता॥

त्रिकूट पर्वत शारदा वासा।मैहर नगरी परम प्रकाशा॥

शरद इन्दु सम बदन तुम्हारो।रूप चतुर्भुज अतिशय प्यारो॥

कोटि सूर्य सम तन द्युति पावन।राज हंस तुम्हारो शचि वाहन॥

कानन कुण्डल लोल सुहावहि।उरमणि भाल अनूप दिखावहिं॥

वीणा पुस्तक अभय धारिणी।जगत्मातु तुम जग विहारिणी॥

ब्रह्म सुता अखंड अनूपा।शारद गुण गावत सुरभूपा॥

हरिहर करहिं शारदा बन्दन।बरुण कुबेर करहिं अभिनन्दन॥

शारद रूप चण्डी अवतारा।चण्ड-मुण्ड असुरन संहारा॥

महिषा सुर वध कीन्हि भवानी।दुर्गा बन शारद कल्याणी॥

धरा रूप शारद भई चण्डी।रक्त बीज काटा रण मुण्डी॥

तुलसी सूर्य आदि विद्वाना।शारद सुयश सदैव बखाना॥

कालिदास भए अति विख्याता।तुम्हारी दया शारदा माता॥

वाल्मीक नारद मुनि देवा।पुनि-पुनि करहिं शारदा सेवा॥

चरण-शरण देवहु जग माया।सब जग व्यापहिं शारद माया॥

अणु-परमाणु शारदा वासा।परम शक्तिमय परम प्रकाशा॥

हे शारद तुम ब्रह्म स्वरूपा।शिव विरंचि पूजहिं नर भूपा॥

ब्रह्म शक्ति नहि एकउ भेदा।शारद के गुण गावहिं वेदा॥

जय जग बन्दनि विश्व स्वरुपा।निर्गुण-सगुण शारदहिं रुपा॥

सुमिरहु शारद नाम अखंडा।व्यापइ नहिं कलिकाल प्रचण्डा॥

सूर्य चन्द्र नभ मण्डल तारे।शारद कृपा चमकते सारे॥

उद्धव स्थिति प्रलय कारिणी।बन्दउ शारद जगत तारिणी॥

दु:ख दरिद्र सब जाहिं नसाई।तुम्हारी कृपा शारदा माई॥

परम पुनीति जगत अधारा।मातु शारदा ज्ञान तुम्हारा॥

विद्या बुद्धि मिलहिं सुखदानी।जय जय जय शारदा भवानी॥

शारदे पूजन जो जन करहीं।निश्चय ते भव सागर तरहीं॥

शारद कृपा मिलहिं शुचि ज्ञाना।होई सकल विधि अति कल्याणा॥

जग के विषय महा दु:ख दाई।भजहुँ शारदा अति सुख पाई॥

परम प्रकाश शारदा तोरा।दिव्य किरण देवहुँ मम ओरा॥

परमानन्द मगन मन होई।मातु शारदा सुमिरई जोई॥

चित्त शान्त होवहिं जप ध्याना।भजहुँ शारदा होवहिं ज्ञाना॥

रचना रचित शारदा केरी।पाठ करहिं भव छटई फेरी॥

सत्–सत् नमन पढ़ीहे धरिध्याना।शारद मातु करहिं कल्याणा॥

शारद महिमा को जग जाना।नेति-नेति कह वेद बखाना॥

सत्–सत् नमन शारदा तोरा।कृपा दृष्टि कीजै मम ओरा॥

जो जन सेवा करहिं तुम्हारी।तिन कहँ कतहुँ नाहि दु:खभारी॥

जो यह पाठ करै चालीसा।मातु शारदा देहुँ आशीषा॥

॥ दोहा ॥
बन्दउँ शारद चरण रज,भक्ति ज्ञान मोहि देहुँ।

सकल अविद्या दूर कर,सदा बसहु उरगेहुँ॥

जय-जय माई शारदा,मैहर तेरौ धाम।

शरण मातु मोहिं लीजिए,तोहि भजहुँ निष्काम॥

शारदा माता चालीसा का अर्थ


शारदा माता चालीसा देवी माँ शारदा की उपासना के लिए प्रयोग की जाने वाली प्रसिद्ध मंत्र है। इसके श्लोक देवी माँ की कृपा और आशीर्वाद की जानकारी देते हैं।

इस चालीसा का पाठ करने से देवी माँ सभी भक्तों के दुःख और दरिद्रता को दूर करती हैं और सभी इच्छाओं को पूरा करने में सहायता करती हैं। इसे नियमित रूप से पाठ करने से विद्यार्थियों को बुद्धि, बल और बढ़ती हुई शक्ति मिलती है।

शारदा माता चालीसा का वर्णन

शारदा माता चालीसा देवी शारदा की महिमा गाता है। यह चालीसा माँ शारदा के गुणों, महत्व और उसकी कृपा को बताता है। यह चालीसा उन लोगों के लिए विशेष रूप से है जो शिक्षा और ज्ञान के लिए माँ शारदा के दर्शन करते हैं। इस चालीसा का पाठ करने से भक्तों को अधिक ज्ञान, संतुलन, धैर्य और सफलता प्राप्त होती है।

माँ शारदा की चालीसा के अनुसार, उन्होंने समस्त ब्रह्माण्ड को अपनी एक नजर से बनाया। वे समस्त विद्या की देवी हैं जो शिक्षा के समस्त क्षेत्रों में शक्तिशाली हैं। चालीसा के अनुसार, जो भक्त माँ शारदा का पूजन करते हैं, उन्हें उनके सभी संदेहों और भयों से मुक्ति मिलती है। चालीसा में उनकी शक्ति, कृपा और आशीर्वाद के बारे में बताया गया है। चालीसा को नियमित रूप से पढ़ने से भक्तों को संतुलन, शांति, सफलता और धैर्य प्राप्त होता है।

भक्तों को शारदा माता का सम्बन्ध अपने जीवन में बनाए रखने के लिए चालीसा का नियमित रूप से पाठ करना चाहिए।
आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इस पेज को ज़रूर लाइक करें और नीचे दिए गए बटन दबा कर शेयर भी कर सकते हैं
शारदा माता चालीसा
   38   0

अगला पोस्ट देखें
शाकम्भरी माता चालीसा
   33   0

Comments

Write a Comment


Name*
Email
Write your Comment
सूर्य चालीसा
-
   41   0
श्री हनुमान चालीसा
- Goswami Tulsidas
   49   0
अन्नपूर्णा माता चालीसा
-
   42   0
सरस्वती चालीसा
-
   44   0
शाकम्भरी माता चालीसा
-
   33   0
विन्ध्येश्वरी माता चालीसा
-
   33   0
श्री परशुराम चालीसा
- Gosvami Tulsidas
   36   0
श्री नवग्रह चालीसा
-
   33   0
काली माता चालीसा
-
   31   0
श्री राम चालीसा
- Valmiki
   45   0
श्री बटुक भैरव चालीसा
-
   34   0
गायत्री चालीसा
-
   36   0
कुबेर धन प्राप्ति मंत्र
- Anonymous
   1   0
By visitng this website your accept to our terms and privacy policy for using this website.
Copyright 2024 Bharat Sanskaron Ki Janani - All Rights Reserved. A product of Anukampa Infotech.
../