Ganesh Gayatri Mantra | भारत संस्कारों की जननी
Follow Us         

गणेश गायत्री मंत्र

Ganesh Gayatri Mantra

ॐ एकदन्ताय विद्धमहे, वक्रतुण्डाय धीमहि,
तन्नो दन्ति प्रचोदयात्॥

Aum Ekadantaya Viddhamahe, Vakratundaya Dhimahi,
Tanno Danti Prachodayat॥

गणेश गायत्री मंत्र का अर्थ


हम उस परमात्मा स्वरुप एकदंत यानि एक दांत वाले भगवान श्री गणेश, जो कि सर्वव्यापी हैं, जिनकी सूंड हाथी के सूंड की तरह मुड़ी हुई है उनसे प्रार्थना करते हैं एवं सद्बुद्धि की कामना करते हैं। हम भगवान श्री गणेश को नमन करते हैं एवं प्रार्थना करते हैं कि वे अपने आशीर्वाद से हमारे मन-मस्तिष्क से अज्ञान के अंधकार को मिटाकर ज्ञान से प्रकाशित करें।

गणेश गायत्री मंत्र का वर्णन


हम उस परमात्मा स्वरुप एकदंत यानि एक दांत वाले भगवान श्री गणेश, जो कि सर्वव्यापी हैं, जिनकी सूंड हाथी के सूंड की तरह मुड़ी हुई है उनसे प्रार्थना करते हैं एवं सद्बुद्धि की कामना करते हैं। हम भगवान श्री गणेश को नमन करते हैं एवं प्रार्थना करते हैं कि वे अपने आशीर्वाद से हमारे मन-मस्तिष्क से अज्ञान के अंधकार को मिटाकर ज्ञान से प्रकाशित करें।
आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इस पेज को ज़रूर लाइक करें और नीचे दिए गए बटन दबा कर शेयर भी कर सकते हैं
गणेश गायत्री मंत्र
   45   0

अगला पोस्ट देखें
गायत्री मंत्र
   43   0

Comments

Write a Comment


Name*
Email
Write your Comment
सीता गायत्री मंत्र
- Anonymous
   38   0
लक्ष्मी गायत्री मंत्र
- Anonymous
   40   0
श्री आञ्जनेयगायत्री मंत्र
- Anonymous
   37   0
श्री रामगायत्री मंत्र
- Anonymous
   34   0
श्री लक्ष्मीवराहगायत्री मंत्र
- Anonymous
   30   0
गरुड़ गायत्री मंत्र
- Anonymous
   39   0
कृष्ण गायत्री मंत्र
- Anonymous
   36   0
पृथ्वी गायत्री मंत्र
- Anonymous
   37   0
सूर्य गायत्री मंत्र
- Anonymous
   40   0
भास्कर गायत्री मंत्र
- Anonymous
   39   0
षण्मुख गायत्री मंत्र
- Anonymous
   48   0
सर्व बाधा मुक्ति मंत्र
- Anonymous
   47   0
कुबेर धन प्राप्ति मंत्र
- Anonymous
   1   0
By visitng this website your accept to our terms and privacy policy for using this website.
Copyright 2024 Bharat Sanskaron Ki Janani - All Rights Reserved. A product of Anukampa Infotech.
../