भारत संस्कारों की जननी - कहानियाँ, प्रसंग, कविताएँ, सुविचार, लेख, गीत
Follow Us         
भारतीय संस्कृति विश्व की एक ऐसी संस्कृति है जिसमें विभिन्न परंपराएं, रीति-रिवाज, धर्म और जीवन शैली शामिल हैं। इतनी विविधता संसार की किसी और सभ्यता में नहीं है। आध्यात्मिकता, पारिवारिक मूल्यों, आतिथ्य और विविधता में एकता की वजह से भारत सदियों से महान माना जाता रहा है। इसके अतिरिक्त, भारतीय संस्कृति ने विश्व को योग, आयुर्वेद, कला, संगीत और नृत्य की एक जीवंत परंपरा दी है।
माना जाता है कि भारत में सबसे पुरानी सभ्यता लगभग 2600 ईसा पूर्व सिंधु घाटी में उभरी थी, और सहस्राब्दियों से यह क्षेत्र संस्कृतियों, धर्मों और भाषाओं की एक विस्तृत श्रृंखला का घर रहा है। आज, भारत समृद्ध सांस्कृतिक विरासत वाला एक जीवंत और विविध देश है। रंग-बिरंगे त्योहारों और जटिल कला रूपों से लेकर स्वादिष्ट व्यंजनों और पारंपरिक कपड़ों तक, भारत की संस्कृति दुनिया भर के लोगों के लिए गर्व और प्रेरणा का स्रोत है।
“भारत संस्कारों की जननी" युवा पाठकों व बच्चों के लिए नैतिक छोटी छोटी कहानियों का एक विस्तृत संग्रह है। ये कहानियाँ उन्हें अच्छे संस्कारो के लिए प्रेरित करेंगी, जिससे वे भविष्य में एक अच्छे इंसान बनेंगे। ये कहानियाँ न सिर्फ बच्चों के लिए बल्कि अभिभावकों के लिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि वे इस वेबसाइट एवं चैनल के माध्यम से अपने बच्चों का सही मार्गदर्शन कर सकते हैं। यदि आपके पास कोई ऐसी ही कहानी, कविता या प्रसंग हो तो आप हमारे साथ साझा कर सकते हैं। आइए हम सब मिल के फिर से भारतीय संस्कारों को घर घर पहुंचाएं।
कहानियों, प्रेरक प्रसंगों, कविताओं, मंत्रों, पहेलियों और अन्य समृद्ध भारतीय साहित्य के माध्यम से हमारे साथ भारतीय संस्कृति को समझें। आइये हम भी एक कदम बढाएं भारत को विश्वगुरु बनाने की ओर।

चर्चित कहानियाँ

संस्कार क्या है
- Admin
   66354   0
जीवन यात्रा
- Admin
   57982   0
सुनहरा मौका
- Admin
   58155   0
प्यारे बंटू भैया
- Admin
   56943   0
संघर्ष
- Admin
   59262   0
दूसरों से आशा
- Admin
   57595   0

चर्चित कवितायें

झुक नहीं सकते
- Atal Bihari Vajpayee
   275   0
बर्र और बालक
- Ramdhari Singh Dinkar
   251   0
चूँ चूँ चूँ चूँ म्याऊँ म्याऊँ
- Ayodhya Singh Upadhyay
   282   0
खुला पुस्तकालय जंगल में
- Prabhudayal Shrivastav
   244   0
अंधकार की नहीं चलेगी
- Prabhudayal Shrivastav
   314   0
पेड़
- Trilok Singh Thakurela
   262   0

चर्चित सुविचार

निराशावादी को हर अवसर में मुश्किल दिखाई देती है। आशावादी को हर मुश्किल में एक अवसर दिखाई देता है।
- विंस्टन चर्चिल
   35
खुशियों को दामन में भरने पर वह थोड़ी सी लगती हैं, लेकिन यदि उन्हें बांटा जाये तो वे और ज्यादा बड़ी नजर आती हैं |
- अज्ञात
   105
जल से जीवन, जीवन ही जल, समझे जब तभी बचे जल। जन-जन हमें जगाना होगा, जल सब तरह बचाना होगा।
- अज्ञात
   1.2K
मैं हवा की दिशा तो नहीं बदल सकता, पर मैं अपने पंखों को हमेशा इस तरह समायोजित जरूर कर सकता हूँ ताकि मैं अपने लक्ष्य तक पहुँच सकूँ
- अज्ञात
   165
हम कौन है इसका परिमाण इससे होता है कि हमारे पास जो है हम उससे क्या करते हैं
- अज्ञात
   131
निपुणता प्राप्त करने योग्य नहीं हैं परन्तु यदि हाँ हम निपुणता से अनुसरण करेंगे, हम उत्कृष्टता को पकड़ सकते हैं
- अज्ञात
   157
मनुष्य जन्म सरल है, पर मनुष्यता कठिन प्रयत्न करके कमानी पड़ती है।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   223
मनुष्य जन्म सरल है, पर मनुष्यता कठिन प्रयत्न करके कमानी पड़ती है।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   155
किसी महान् उद्देश्य को न चलना उतनी लज्जा की बात नहीं होती, जितनी कि चलने के बाद कठिनाइयों के भय से पीछे हट जाना।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   161
अपने कार्यों में व्यवस्था, नियमितता, सुन्दरता, मनोयोग तथा जिम्मेदारी का ध्यान रखें।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   181
अच्छे काम का प्रयोग अपने से ही आरम्भ करो।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   171
सन्मार्ग पर चलना ही आत्मबल बढ़ाने का अमोघ साधन है।
- पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य
   237

चर्चित मंत्र

गरुड़ पूजा के लिए मंत्र
- Anonymous
   34   0
श्री शनि चालीसा
-
   44   0
दुर्गा आशांत शिशु शांति प्रदायक मंत्र
- Anonymous
   39   0
सर्व बाधा मुक्ति मंत्र
- Anonymous
   47   0
शिव मूल मंत्र
- Anonymous
   49   0
पृथ्वी गायत्री मंत्र
- Anonymous
   37   0

संपर्क करें

आप हमें अपने सुझाव,प्रश्न,प्रतिक्रिया भेज सकते हैं.आप हमें कोई कहानी,प्रसंग,कविता इत्यादि भी भेज सकते हैं


By visitng this website your accept to our terms and privacy policy for using this website.
Copyright 2024 Bharat Sanskaron Ki Janani - All Rights Reserved. A product of Anukampa Infotech.